श्री शिव चालीसा | Shiv Chalisa PDF in Hindi

Download PDF of श्री शिव चालीसा | Shiv Chalisa Hindi

Name of pdfश्री शिव चालीसा | Shiv Chalisa
Total Pages21
Size of PDF 1.12 MB
LanguageHindi
Tagsचालीसा संग्रह, शिव चालीसा | Shiv Chalisa
shiv chalisa pdf

Download श्री शिव चालीसा | Download the Shiv Chalisa Hindi PDF for free by using the download link given down.

श्री शिव चालीसा PDF hindi mein | श्री शिव आरती aur पूजा विधि सहित – 

Also Read:

Shiva Ashtothram 108 Names | శ్రీ శివ అష్టోత్తర శతనామావళిః PDF in Telugu

Shiv Chalisa, a devotional stotra to Lord Shiva, is dedicated to the Hindu deity.

It is based on the Shiva Purana and contains 40 chaupais. These chaupais are recited daily by Shivaites or worshippers of Shiva, or on special occasions like Maha Shivaratri.

shiv chalisa download pdf
श्री शिव चालीसा पढ़ने से पहले दोहा पढ़ा जाता है जो इस प्रकार है।
।। दोहा ।।

श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।
कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

हे गिरिजा पुत्र भगवान श्री गणेश आपकी जय हो। आप मंगलकारी हैं, विद्वता के दाता हैं, अयोध्यादास की प्रार्थना है प्रभु कि आप ऐसा वरदान दें जिससे सारे भय समाप्त हो जांए।

|| श्री शिव चालीसा चौपाई ||
जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥

अर्थ:  हे गिरिजा पति हे, दीन हीन पर दया बरसाने वाले भगवान शिव आपकी जय हो, आप सदा संतो के प्रतिपालक रहे हैं। आपके मस्तक पर छोटा सा चंद्रमा शोभायमान है, आपने कानों में नागफनी के कुंडल डाल रखें हैं।

अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन छार लगाये॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देख नाग मुनि मोहे॥

अर्थ: आपकी जटाओं से ही गंगा बहती है, आपके गले में मुंडमाल (माना जाता है भगवान शिव के गले में जो माला है उसके सभी शीष देवी सती के हैं, देवी सती का 108वां जन्म राजा दक्ष प्रजापति की पुत्री के रुप में हुआ था। जब देवी सती के पिता प्रजापति ने भगवान शिव का अपमान किया तो उन्होंने यज्ञ के हवन कुंड में कुदकर अपनी जान दे दी तब भगवान शिव की मुंडमाला पूर्ण हुई। इसके बाद सती ने पार्वती के रुप में जन्म लिया व अमर हुई) है। बाघ की खाल के वस्त्र भी आपके तन पर जंच रहे हैं। आपकी छवि को देखकर नाग भी आकर्षित होते हैं।

मैना मातु की ह्वै दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

अर्थ: माता मैनावंती की दुलारी अर्थात माता पार्वती जी आपके बांये अंग में हैं, उनकी छवि भी अलग से मन को हर्षित करती है, तात्पर्य है कि आपकी पत्नी के रुप में माता पार्वती भी पूजनीय हैं। आपके हाथों में त्रिशूल आपकी छवि को और भी आकर्षक बनाता है। आपने हमेशा शत्रुओं का नाश किया है।

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥

अर्थ: आपके सानिध्य में नंदी व गणेश सागर के बीच खिले कमल के समान दिखाई देते हैं। कार्तिकेय व अन्य गणों की उपस्थिति से आपकी छवि ऐसी बनती है, जिसका वर्णन कोई नहीं कर सकता।

देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

अर्थ: हे भगवन, देवताओं ने जब भी आपको पुकारा है, तुरंत आपने उनके दुखों का निवारण किया। तारक जैसे राक्षस के उत्पात से परेशान देवताओं ने जब आपकी शरण ली, आपकी गुहार लगाई।

तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

अर्थ: हे प्रभू आपने तुरंत तरकासुर को मारने के लिए षडानन (भगवान शिव व पार्वती के पुत्र कार्तिकेय) को भेजा। आपने ही जलंधर (श्रीमद‍्देवी भागवत् पुराण के अनुसार भगवान शिव के तेज से ही जलंधर पैदा हुआ था) नामक असुर का संहार किया। आपके कल्याणकारी यश को पूरा संसार जानता है।

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तसु पुरारी॥

अर्थ: हे शिव शंकर भोलेनाथ आपने ही त्रिपुरासुर (तरकासुर के तीन पुत्रों ने ब्रह्मा की भक्ति कर उनसे तीन अभेद्य पुर मांगे जिस कारण उन्हें त्रिपुरासुर कहा गया। शर्त के अनुसार भगवान शिव ने अभिजित नक्षत्र में असंभव रथ पर सवार होकर असंभव बाण चलाकर उनका संहार किया था) के साथ युद्ध कर उनका संहार किया व सब पर अपनी कृपा की। हे भगवन भागीरथ के तप से प्रसन्न हो कर उनके पूर्वजों की आत्मा को शांति दिलाने की उनकी प्रतिज्ञा को आपने पूरा किया।

दानिन महं तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद नाम महिमा तव गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

अर्थ: हे प्रभू आपके समान दानी और कोई नहीं है, सेवक आपकी सदा से प्रार्थना करते आए हैं। हे प्रभु आपका भेद सिर्फ आप ही जानते हैं, क्योंकि आप अनादि काल से विद्यमान हैं, आपके बारे में वर्णन नहीं किया जा सकता है, आप अकथ हैं। आपकी महिमा का गान करने में तो वेद भी समर्थ नहीं हैं।

प्रगट उदधि मंथन में ज्वाला। जरे सुरासुर भये विहाला॥
कीन्ह दया तहँ करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

अर्थ: हे प्रभु जब क्षीर सागर के मंथन में विष से भरा घड़ा निकला तो समस्त देवता व दैत्य भय से कांपने लगे (पौराणिक कथाओं के अनुसार सागर मंथन से निकला यह विष इतना खतरनाक था कि उसकी एक बूंद भी ब्रह्मांड के लिए विनाशकारी थी) आपने ही सब पर मेहर बरसाते हुए इस विष को अपने कंठ में धारण किया जिससे आपका नाम नीलकंठ हुआ।

पूजन रामचंद्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥
एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भये प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

अर्थ: हे नीलकंठ आपकी पूजा करके ही भगवान श्री रामचंद्र लंका को जीत कर उसे विभीषण को सौंपने में कामयाब हुए। इतना ही नहीं जब श्री राम मां शक्ति की पूजा कर रहे थे और सेवा में कमल अर्पण कर रहे थे, तो आपके ईशारे पर ही देवी ने उनकी परीक्षा लेते हुए एक कमल को छुपा लिया। अपनी पूजा को पूरा करने के लिए राजीवनयन भगवान राम ने, कमल की जगह अपनी आंख से पूजा संपन्न करने की ठानी, तब आप प्रसन्न हुए और उन्हें इच्छित वर प्रदान किया।

जय जय जय अनंत अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै । भ्रमत रहे मोहि चैन न आवै॥
त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। यहि अवसर मोहि आन उबारो॥
लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट से मोहि आन उबारो॥

अर्थ: हे अनंत एवं नष्ट न होने वाले अविनाशी भगवान भोलेनाथ, सब पर कृपा करने वाले, सबके घट में वास करने वाले शिव शंभू, आपकी जय हो। हे प्रभु काम, क्रोध, मोह, लोभ, अंहकार जैसे तमाम दुष्ट मुझे सताते रहते हैं। इन्होंनें मुझे भ्रम में डाल दिया है, जिससे मुझे शांति नहीं मिल पाती। हे स्वामी, इस विनाशकारी स्थिति से मुझे उभार लो यही उचित अवसर। अर्थात जब मैं इस समय आपकी शरण में हूं, मुझे अपनी भक्ति में लीन कर मुझे मोहमाया से मुक्ति दिलाओ, सांसारिक कष्टों से उभारों। अपने त्रिशुल से इन तमाम दुष्टों का नाश कर दो। हे भोलेनाथ, आकर मुझे इन कष्टों से मुक्ति दिलाओ।

मातु पिता भ्राता सब कोई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु अब संकट भारी॥
धन निर्धन को देत सदाहीं। जो कोई जांचे वो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करौं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

अर्थ: हे प्रभु वैसे तो जगत के नातों में माता-पिता, भाई-बंधु, नाते-रिश्तेदार सब होते हैं, लेकिन विपदा पड़ने पर कोई भी साथ नहीं देता। हे स्वामी, बस आपकी ही आस है, आकर मेरे संकटों को हर लो। आपने सदा निर्धन को धन दिया है, जिसने जैसा फल चाहा, आपकी भक्ति से वैसा फल प्राप्त किया है। हम आपकी स्तुति, आपकी प्रार्थना किस विधि से करें अर्थात हम अज्ञानी है प्रभु, अगर आपकी पूजा करने में कोई चूक हुई हो तो हे स्वामी, हमें क्षमा कर देना।

शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। नारद शारद शीश नवावैं॥

अर्थ: हे शिव शंकर आप तो संकटों का नाश करने वाले हो, भक्तों का कल्याण व बाधाओं को दूर करने वाले हो योगी यति ऋषि मुनि सभी आपका ध्यान लगाते हैं। शारद नारद सभी आपको शीश नवाते हैं।

नमो नमो जय नमो शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पार होत है शम्भु सहाई॥


अर्थ: हे भोलेनाथ आपको नमन है। जिसका ब्रह्मा आदि देवता भी भेद न जान सके, हे शिव आपकी जय हो। जो भी इस पाठ को मन लगाकर करेगा, शिव शम्भु उनकी रक्षा करेंगें, आपकी कृपा उन पर बरसेगी।

ॠनिया जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र हीन कर इच्छा कोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥
पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे ॥
त्रयोदशी ब्रत करे हमेशा। तन नहीं ताके रहे कलेशा॥

अर्थ: पवित्र मन से इस पाठ को करने से भगवान शिव कर्ज में डूबे को भी समृद्ध बना देते हैं। यदि कोई संतान हीन हो तो उसकी इच्छा को भी भगवान शिव का प्रसाद निश्चित रुप से मिलता है। त्रयोदशी (चंद्रमास का तेरहवां दिन त्रयोदशी कहलाता है, हर चंद्रमास में दो त्रयोदशी आती हैं, एक कृष्ण पक्ष में व एक शुक्ल पक्ष में) को पंडित बुलाकर हवन करवाने, ध्यान करने और व्रत रखने से किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं रहता।

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्तवास शिवपुर में पावे॥
कहे अयोध्या आस तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

अर्थ: जो कोई भी धूप, दीप, नैवेद्य चढाकर भगवान शंकर के सामने इस पाठ को सुनाता है, भगवान भोलेनाथ उसके जन्म-जन्मांतर के पापों का नाश करते हैं। अंतकाल में भगवान शिव के धाम शिवपुर अर्थात स्वर्ग की प्राप्ति होती है, उसे मोक्ष मिलता है। अयोध्यादास को प्रभु आपकी आस है, आप तो सबकुछ जानते हैं, इसलिए हमारे सारे दुख दूर करो भगवन।

॥दोहा॥

नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीसा।
तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥
मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान।
अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

बोलो शिव शंकर भगवान की जय ||

shiv chalisa hindi pdf

शंकरं, शंप्रदं, सज्जनानंददं, शैल – कन्या – वरं, परमरम्यं ।

काम – मद – मोचनं, तामरस – लोचनं, वामदेवं भजे भावगम्यं ॥1॥

कंबु – कुंदेंदु – कर्पूर – गौरं शिवं, सुंदरं, सच्चिदानंदकंदं ।

सिद्ध – सनकादि – योगींद्र – वृंदारका, विष्णु – विधि – वन्द्य चरणारविंदं ॥2॥

ब्रह्म – कुल – वल्लभं, सुलभ मति दुर्लभं, विकट – वेषं, विभुं, वेदपारं ।

नौमि करुणाकरं, गरल – गंगाधरं, निर्मलं, निर्गुणं, निर्विकारं ॥3॥

लोकनाथं, शोक – शूल – निर्मूलिनं, शूलिनं मोह – तम – भूरि – भानुं ।

कालकालं, कलातीतमजरं, हरं, कठिन – कलिकाल – कानन – कृशानुं ॥4॥

तज्ञमज्ञान – पाथोधि – घटसंभवं, सर्वगं, सर्वसौभाग्यमूलं ।

प्रचुर – भव – भंजनं, प्रणत – जन – रंजनं, दास तुलसी शरण सानुकूलं ॥5॥

shiv chalisa download pdf

जय शिव ओंकारा ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा विष्णु सदा शिव अर्द्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव…॥

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसानन गरुड़ासन वृषवाहन साजे ॥ ॐ जय शिव…॥

दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहे।
त्रिगुण रूपनिरखता त्रिभुवन जन मोहे ॥ ॐ जय शिव…॥

अक्षमाला बनमाला रुण्डमाला धारी ।
चंदन मृगमद सोहै भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव…॥

श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥ ॐ जय शिव…॥

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूल धर्ता ।
जगकर्ता जगभर्ता जगसंहारकर्ता ॥ ॐ जय शिव…॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर मध्ये ये तीनों एका ॥ ॐ जय शिव…॥

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रह्मचारी ।
नित उठि भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव…॥

त्रिगुण शिवजीकी आरती जो कोई नर गावे ।
कहत शिवानन्द स्वामी मनवांछित फल पावे ॥ ॐ जय शिव…॥

सम्पूर्ण श्री शिव चालीसा PDF हिन्दी में डाउनलोड करने के लिए नीचे दिये गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करें और पाएँ श्री शिव चालीसा, श्री शिव आरती और पूजा विधि एक ही पीडीएफ़ में।

shiv chalisa in hindi pdf

Here’s a God who allows almost all religious taboos to be accepted. He seems to make mistakes without fear and deal with them in a surprising calm manner. What the heck?! He is definitely not a slave to rules and is easy to please.

See also  prochesta online application Scheme 2021: Eprochesta prokolpo online application link, Application Form, Official prochesta wb.in

He is cool, stylish (he has a dreadlock), funny, unpredictable (unlike most Gods), extremely popular with young and old alike. Lord Shiva deals with cosmos, meditates most days, likes to take care of his own business, has a wild mix of anger, calm, and is someone whose stories have appealed to every generation.

Here are some entertaining stories and facts about him

It is known that Hanuman is the 11th avatar of God Shiva. Many texts describe him as the incarnation or Shiva. Hanuman, who was blessed by Vayu, the Hindu God of Wind, is well-known for his devotion and devotion to Lord Rama.

According to legend, Shiva trapped Ravana beneath Kailash when he tried to remove Mount Kailash. Ravana began to sing hymns and play instruments in order to redeem himself. Shiva eventually freed Ravana from the mountain and blessed his life.

Shiva was busy meditating when the Devas fought Tarakasur. The Devas requested Kamadeva to strike Shiva with his love bows. But lord Shiva, who was in deep meditation, woke up in rage and burned Kamadeva down to ashes with his 3rd eye.

As per mythology, Sati, and not Parvati, (as most of us may not know), was the first wife of Shiva and was very fond of him. Her father was a priest and her father didn’t approve of Shiva’s ways. Sati’s father invited everyone to a sacrifice when he decided to do so. She was very upset by the insult to Shiva and committed suicide during the sacrifice. In a furious rage, Shiva attacked her father.

His sense of calm is represented by the snake, mountains, and snow around his neck. Self-contained and content, Lord Shiva is a symbol of calm(shanti) and peace.

The Trident or Trishul of God Shiva unites the 3 worlds a human being is associated with – his inside world, the world around him and the broader world. The harmony of the three is shown by the trident.

The Shaivites are a group of followers who consume Bhang, a drink made from cannabis, and smoke marijuana on the auspicious day Shivaratri. Popular among the followers, this is one hell of an offering for a God!

It is believed, the demon ‘Apasmara’, who represented ignorance challenged God Shiva. The famous Tandava, or dance of destruction, was performed by Lord Shiva under the right foot. Apasmara (ignorance), should not be killed to maintain the balance between ignorance and knowledge. It is believed that God Shiva will forever remain in his Nataraja form, suppressing Apasmara for all eternity. The message of Lord Shiva’s Nataraja avatar, is that ignorance can only overcome through knowledge, music and dance.

See also  how to transfer sbi account to another branch offline & Online

Also Read:

श्री शिवजी आरती | Shiv Aarti PDF in Hindi

Often cited as an example of perfect marriage, Shiva along with his consort Parvati is represented in the Ardhanarishwar form – which is a half male and half female icon. This androgynous form is believed to show that the universe’s masculine and feminine energies (Purusha and Prakrithi) are a synthesis.

As the story goes forward, Surabhi, the mother of all cows started giving birth to many cows, and the cows started flooding Kailash with their own milk. Shiva was furious and used his third eye to destroy many of the cows. The Gods offered Nandi, the majestic bull, to Lord Shiva to calm him down.

According to Devdutt Pattanaik, in Epified, Shiva is naked and sports an erect phallus in all of the stories known. To save his public from discomfort, he wears an animal hide. Pattanaik says that Shiva is content and unaffected by the outside world, but rather by constant internal bliss.

Like we all know, Shiva is smeared with ash. It symbolizes both destruction and permanence, as it can be created from burning materials but not burned. It symbolizes the eternal soul and is released after the matter has been destroyed.

Three lines of ash are smeared across Shiva’s forehead in horizontal orientation. The lines represent the destruction of the 3 worlds of Hinduism. It is a symbol of inertia or lack of movement. It also refers to the merging the three worlds into one self.

To obtain Amrit, the Devas and Asuras began to churn the milky ocean. They discovered a deadly poison, the Halahala poison. It had to be pulled out of the ocean. Shiva took the poison without thinking about the consequences and Parvati tried to prevent the poison spreading to his other organs – which is what caused his blue throat.

In a conflict between Brahma and Vishnu regarding who the real God was, Shiva appeared as an infinite Linga fire-pillar. Vishnu and Varaha set out to locate the bottom of the Linga, while Brahma searched for its top. Vishnu returned and said that the pillar was interminable. Brahma however, claimed that the pillar was not limited and that he was the true God. The pillar burst open just as Shiva appeared. He accused Brahma, accusing him of lying and denying that he was a God. Vishnu thanked him for being honest and suggested that Vishnu might be on his way towards becoming a God. In the process, he stated that he was one and only God. We can see what you did there.

It is believed, this is the cave where Shiva explained the secret of life and eternity to his divine consort, Parvati. The famous Amarnath cave is visited annually by followers and devotees to Lord Shiva. It also contains the Lingam ice stalagmite.

See also  How To Get Bank Of India Mini Statement By Missed Call Or SMS

Also Read:

Shiva Puran | शिव पुराण PDF in Hindi

In the Bhagavata Purana, after Vishnu deceived the demons in his female form, Shiva wanted to see the bewildering Mohini again. Shiva was lured by Mohini when Vishnu revealed his Mohini forms, while Parvati, Shiva’s abandoned wife, watched. Kama (love, desire) overcomes Shiva. His unfailing seed flew and fell to the ground. Ayyappa was borne from these seeds of Shiva.

As it goes, Bhagiratha asked Brahma to bring the river Ganges down to earth so that he could perform a ceremony for his ancestors. Brahma asked Bhagiratha for the propitiation of Lord Shiva as only Shiva could end Ganga’s landfall. Ganga flies down to the earth arrogantly, but Shiva calmly holds her in his hair and lets her go in small streams. Ganga was further sanctified by the touch of Shiva.

As per Hindu mythology, Lord Shiva was on his way to Kashi along with one crore gods and goddesses. Before he went to sleep in Unakoti (Tripura), he asked them all to get up before dawn the next day. Shiva was the only one to wake up in the morning. He was furious, and set off for Kashi alone, cursing his companions for turning into stone images.

The debate will continue, true or false. Shiva, however, is by far the most relatable and the coolest Hindu God.

Download श्री शिव चालीसा | Download the Shiv Chalisa Hindi PDF for free by using the download link given at top.

Hope you got a lot to know about shiv chalisa hindi pdf, shiv chalisa download pdf. We have tried to give you information about shiv chalisa pdf, shiv chalisa in hindi pdf, shiv chalisa pdf download. Along with this, we have told about shiv chalisa hindi pdf, If you still have any question in your mind about shiv chalisa pdf download then you can ask us by commenting in the comment box below.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *